Hindi Shayari on Insult

Dil Ki Tamanna Hai Ke Main Bhi,
Apni Palko Pe Bithhaun Tujhko,
Bas Tu Apna Wajan Kam Kar Le,
Toh Mera Kaam Aasan Ho Jaye.

दिल की तमन्ना है कि मैं भी,
अपनी पलकों पे बैठाऊँ तुझको,
बस तू अपना वजन कम करले,
तो मेरा काम आसान हो जाए।

 

Iss Dil Ko Toh Ek Baar Ko,
Bahla Kar Chup Kara Lunga,
Par Iss Dimaag Ka Kya Karun,
Jiska Tumne Dahi Kar Diya Hai.

इस दिल को तो एक बार को,
बहला कर चुप करा लूँगा,
पर इस दिमाग का क्या करूँ,
जिसका तुमने दही कर दिया है।

 

Aasmaan Jitna Neela Hai,
SurajMukhi Jitna Peela Hai,
Paani Jitna Geela Hai,
Aapka Screw Utna Hi Dheela Hai.

आसमान जितना नीला है,
सूरजमुखी जितना पीला है,
पानी जितना गीला है,
आपका स्क्रू उतना ही ढीला है।

One thought on “Hindi Shayari on Insult

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *