Shayari on Beauty

Neend Se Kya Shiqwa Jo Aati Nahi Raat Bhar,
Kasoor Toh Unke Chehre Ka Hai Jo Sone Nahi Deta.

नींद से क्या शिकवा जो आती नहीं रात भर,
कसूर तो उस चेहरे का है जो सोने नहीं देता।

Nahi Bhaata Ab Tere Siwa Kisi Aur Ka Chehra,
Tujhe Dekhna Aur Dekhte Rehna Dastoor Ban Gaya.

नहीं भाता अब तेरे सिवा किसी और का चेहरा,
तुझे देखना और देखते रहना दस्तूर बन गया है।

 

Iss Darr Se Kabhi Gaur Se Dekha Nahi Tujhko,
Kehte Hain Lag Jaati Hai Apnon Ki Najar Bhi.

इस डर से कभी गौर से देखा नहीं तुझको​,​
​​कहते हैं कि लग जाती है अपनों की नज़र भी​।

Kyun Chandni Raaton Mein Dariya Pe Nahate Ho,
Soye Huye Paani Mein Kya Aag Lagaani Hai.

क्यों चाँदनी रातों में दरिया पे नहाते हो,
सोये हुए पानी में क्या आग लगानी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *